एक मछली ने बदल दी किस्मत – लखपति बन गए मछुआरे भाई

33

Ghol Fish – मुंबई के दो मछुआरों की किस्मत एक मछली ने रातोरात बदल दी. दरअसल, मछुआरों के जाल में घोल मछली फंस गई और जब वे उसे बाजार में बेचने गए तो मछली 5.5 लाख रुपये में बिकी. मिली जानकारी के अनुसार, मछुआरा महेश अपने भाई के साथ शुक्रवार को मछली पकड़ने गया था. उन्होंने मुर्बे तट पर समंदर में जाल डालकर रखा था. जब उन्होंने देखा तो पाया कि उनके जाल में घोल मछली फंसी थी. मछली का वजन करीब 30 किलो था. जब दोनों भाई उसे बेचने के लिए बाजार लेकर गए तो घोल मछली खरीदने के लिए व्यापारियों की लम्बी लाइन लग गई. इसके बाद मछली पर बोली लगी और 15-20 हजार से शुरू होकर मछली की कीमत आखिरकार 5.5 लाख लगी. इसे मुंबई के एक स्थानीय व्यापारी ने खरीद लिया.

Ghol Fish मुंबई के दो मछुआरों की किस्मत एक मछली ने रातोरात बदल दी. दरअसल, मछुआरों के जाल में घोल मछली फंस गई और जब वे उसे बाजार में बेचने गए तो मछली 5.5 लाख रुपये में बिकी. मिली जानकारी के अनुसार, मछुआरा महेश अपने भाई के साथ शुक्रवार को मछली पकड़ने गया था. उन्होंने मुर्बे तट पर समंदर में जाल डालकर रखा था
Ghol Fish Image – मुंबई के दो मछुआरों की किस्मत एक मछली ने रातोरात बदल दी. दरअसल, मछुआरों के जाल में घोल मछली फंस गई और जब वे उसे बाजार में बेचने गए तो मछली 5.5 लाख रुपये में बिकी. मिली जानकारी के अनुसार, मछुआरा महेश अपने भाई के साथ शुक्रवार को मछली पकड़ने गया था. उन्होंने मुर्बे तट पर समंदर में जाल डालकर रखा था

आधार डाटा की सुरक्षा पूरी तरह चौकचौबंद: यूआईडीएआई

घोल मछली के बारे में कहा जाता है कि इसमें चमत्कारी औषधीय गुण पाए जाते हैं, जिसके कारण पूर्वी एशिया में इसकी कीमत बहुत ज्यादा है. यहां तक कि घोल (ब्लैकस्पॉटेड क्रॉकर, वैज्ञानिक नाम प्रोटोनिबा डायकांथस) को ‘सोने के दिल वाली मछली’ के रूप में भी जाना जाता है. इस मछली से कई तरह के कॉस्मेटिक भी बनाए जाते हैं. यहां तक कि घोल (ब्लैकस्पॉटेड क्रॉकर, वैज्ञानिक नाम प्रोटोनिबा डायकांथस) को ‘सोने के दिल वाली मछली’ के रूप में भी जाना जाता है. इस मछली से कई तरह के कॉस्मेटिक भी बनाए जाते हैं.